ज़ाकिर खान को ज्यादातर लोग “एक शख्त लौंडे” की वजह से ज्यादा जानते है| जाकिर खान की शुरुआत काफी ज्यादा अच्छी नहीं रही थी | इसके बाद इन्होने AIB से अपने सफर की शुरुआत की और आज शायद ही कोई युवा इन्हे न जानता हो | इसी वजह से जाकिर खान को लोग आज एक हास्य कलाकार के रूप में जानते है और साथ ही साथ लोग उन्हें एक अच्छा कलमकार भी मानते है | जाकिर खान ने एक शायर के रूप में काफी कामयाबी बंटोरी है आज में आपको उनकी कुछ शायरी आप लोगो के साथ शेयर कर रहा हूँ | आप भी अपने दोस्तों के साथ इन शायरियो को साँझा या शेयर कर सकते है | इसके अलावा आप इस पोस्ट में जाकिर खान शायरी, Zakir Khan Shayari in Hindi, zakir khan shayari, zakir khan shayari lyrics, zakir khan shayari haq se single, zakir khan sunya, jakir khan आदि के बारे में पढ़ सकते है

Zakir Khan Shayari Lyrics

माना की तुमको इश्क़ का तजुर्बा भी कम नहीं,
हमने भी बाग़ में हैं कई तितलियाँ उड़ाई..

कामयाबी हमने तेरे लिए खुद को यूँ तैयार कर लिया,
मैंने हर जज़्बात बाज़ार में रख कर इश्तेहार कर लिया..

जिंदगी से कुछ ज्यादा नहीं,
बस इतनी से फरमाइश है,
अब तस्वीर से नहीं,
तफ्सील से मलने क ख्वाइश है..

बस का इंतज़ार करते हुए,
मेट्रो में खड़े खड़े
रिक्शा में बैठे हुए
गहरे शुन्य में क्या देखते रहते हो?
गुम्म सा चेहरा लिए क्या सोचते हो?
क्या खोया और क्या पाया का हिसाब नहीं लगा पाए न इस बार भी?
घर नहीं जा पाए न इस बार भी?

Zakir Khan Shayari in Hindi – जाकिर खान शायरी in Hindi

हम दोनों में बस इतना सा फर्क है,
उसके सब “लेकिन” मेरे नाम से शुरू होते है
और मेरे सारे “काश” उस पर आ कर रुकते है..

उसे मैं क्या, मेरा खुमार भी मिले तो बेरहमी से तोड़ देती है,
वो ख्वाब में आती है मेरे, फिर आकर मुझे छोड़ देती है….

इश्क़ को मासूम रहने दो नोटबुक के आखिरी पन्ने पर,
आप उसे किताबो में डालकर मुश्किल न कीजिये..

Zakir Khan Shayari Aag – जाकिर खान शायरी

तेरी बेवफाई के अंगारो में लिपटी रही हे रूह मेरी,
मैं इस तरह आज न होता जो हो जाती तू मेरी..
एक सांस से दहक जाता है शोला दिल का
शायद हवाओ में फैली है खुशबू तेरी

Teri Bewafaai ke Angaaro mein lipti rahi hai Rooh meri,
Main iss tarah Aag na hota agar ho jaati tu meri…
Ekk saans se dehek jaata hai shola Dil ka,
Shaayad hawaaon mein faili hai Khushboo teri…

अब वो आग नहीं रही, न शोलो जैसा दहकता हूँ,
रंग भी सब के जैसा है, सबसे ही तो महेकता हूँ…
एक आरसे से हूँ थामे कश्ती को भवर में,
तूफ़ान से भी ज्यादा साहिल से डरता हूँ…

Ab Wo Aag Nahi Rahi, Na Sholo Jaisa Dehekta Hoon,
Rang Bhi Sab Ke Jaisa Hai, Sabsa Hi To Mehekta Hoon…
Ek Arse Se Hoon Thhame Kashti Ko Bhavar Mein,
Toofaan Se Bhi Jyada Saahil Se Darta Hoon…

Zakir Khan Shayari Qayamat

जाकिर खान शायरी - Zakir Khan Shayari in Hindi

Mere kuch sawaal hai jo sirf Qayamatt ke roj puchhunga tumse,
Kyuki uske pehle tumhari aur meri baat ho sake iss laayak nahi ho tum…

Main janana chahta hu kya raqib ke saath bhi chalte hue,
Shaam ko yunhi bekhayali main uske saath bhi kya haat takkra jaat hai kya tumhara?

Kyaa apni chhoti ungli se uska bhi haat thaam liya karti ho tum,
Kya waise hai jaise mera thhama karti thi…?

Kyan bataadi saari bhachpan ki kahaniya tumne usko jaise mujhko raat raat bhar baith kar sunaai thi tumne…?

Kyaaa tumne bataya usko ke 30 ke aage ki hindi ki ginti aati nahi tumko…?

Wo jo saari tasverein tumhare papa ke saath , tumhari behen ke saath tumhari thi, jinme tum mujhe badi pyaari lagg rahi ho,
Kya use bhi dikhaadi tumne…?

Ke kuch sawaal hai jo sirf Qayamatt ke roj puchunga tumse,
Kyuki usske pehle tumhari aur meri baat ho sake iss laayak nahi ho tum…

Ke main puchhna chahta hu kya jab wo bhi ghar chhodne aata hai tumko,
To kya seedhiyo pe aankhein neech kar meri hi tarah uske saamne bhi maatha aage kar deti ho tum,
Waise hi jaisa mere saamne kiya karti thi…?

Kya sard raaton mein band kamro mein wo bhi meri hi tarah,
Tumhari nangi peeth par apni ungliyo se harf dar harf khudka ka naam gondta hai,
Aur tum bhi Akshar-be-akshar pehchaanane ki koshish karti ho kya jaise mere saath kiya karti thi…?

Ke kuch sawaal hai jo sirf Qayamatt ke roj puchunga tumse,
Kyuki usske pehle tumhari aur meri baat ho sake iss laayak nahi ho tum…

Zakir Khan Ruhaani Ishq

Bohut hua Ruhaani Ishq ab ke to milna hai tumse,
Gazalein nahi likhni hai chhuna hai tumko…
Wo hazar baar ke padhe hue Khat ek aur baar nahi padhne hai mujhe,
Mujhe apni Ungliya tumhari Hateli pe chahiye…
Chum lena hai Maatha tumhara, Seene se laga lena hai tumko, Baaho mein bhar lena hai..
Bohot hua Ruhaani Ishq ab ke to milna hai tumse…
Aur phone pe to bilkul baat nahi karni hai,
Par tumhare kaano par se baal hataana hai aur ek chhotisi baali pehna dena hai tumko…
Bicchiya, Payal, Bindi sab kuch apne haato se pehnana hai,
Ab Khushbu Mehsoos nahi karni hai tumhari…
Bass palko ko band hote hue aur khulte dekhna hai,
Kuch kaam batana hai tumko,
Fir tumhare utthkar jaane par kalaai se pakadkar baitha dena hai tumko,
Bohot hua Ruhaani Ishq ab ke to milna hai tumse…

Zakir Khan Shayari Images

जाकिर खान शायरी - Zakir Khan Shayari in Hindi

ज़िन्दगी से कुछ ज्यादा नहीं बास इतनी सी फरमाइश है ,
अब तस्वीर से नहीं, तफ्सील से मिलने की ख्वाइश है…

Zakir Khan Shayari Motivational, Zakir Khan Poetry Shunya – जाकिर खान शायरी

मैं शून्य पे सवार हूँ
बेअदब सा मैं खुमार हूँ
अब मुश्किलों से क्या डरूं
मैं खुद कहर हज़ार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ

उंच-नीच से परे
मजाल आँख में भरे
मैं लड़ रहा हूँ रात से
मशाल हाथ में लिए
न सूर्य मेरे साथ है
तो क्या नयी ये बात है
वो शाम होता ढल गया
वो रात से था डर गया
मैं जुगनुओं का यार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ

भावनाएं मर चुकीं
संवेदनाएं खत्म हैं
अब दर्द से क्या डरूं
ज़िन्दगी ही ज़ख्म है
मैं बीच रह की मात हूँ
बेजान-स्याह रात हूँ
मैं काली का श्रृंगार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ

हूँ राम का सा तेज मैं
लंकापति सा ज्ञान हूँ
किस की करूं आराधना
सब से जो मैं महान हूँ
ब्रह्माण्ड का मैं सार हूँ
मैं जल-प्रवाह निहार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ

Zakir Khan Shayari Meri Dastan – जाकिर खान शायरी

Mera Sab bura bhi kehna,
Par aacha bhi sab batana.
Mai jau duniya se toh sabko
Meri dastaan sunana.

yeh bhi Batana Ki kaise
samandar jeetne se pehle,
Mai Na jaane kitni choti-choti
nadiyon se hazaaron bar haara tha.
Woh ghar Woh zameen deekhana,
Koi magrur bhi kahega toh tum
Usko shuruwat meri batana.
Batana safar ki dushwariya mere,
Taki koi jo Meri jaisi zameen se aaye
Uske liye nadi ki haar choti hi rahe.
Samsndar jeetne ka khawab
Uske dil aur dimag se na jaaye.
Par unse meri galatiya bhi mat chupana.

Koi poche toh bata dena ki
Mai kiss darje ka nakara tha.
Keh dena ki jhoota tha mai,
Batana ki kaise
zarurat par kaam na aa saka.
Wade kiye par nibha na saka.
Intqaam saare poore kiye
par ishq adhura rehne diya.

Bata dena sabko ki,
mai matlabi bada tha.
Har bade mukaam pe
tanha hi mai khada tha.

Mera Sab bura bhi kehna,
Par aacha bhi sab batana.
Mai jau duniya se toh sabko
Meri dastaan sunana.

Zakir Khan Shayari Bewafaai – जाकिर खान शायरी

यह भी पढ़े इश्क़ शायरी – इश्क मोहब्बत की शायरी

यूँ तो भूले है हमे लोग कई,
पहले भी बहुत से
पर तुम जितना कोई उनमे से याद नहीं आया..

बेवजह बेवफाओं को याद किया है,
गलत लोगो पर बहुत बर्बाद किया है.

अब कोई हक़ से हाथ पकड़कर महफ़िल में दोबारा नहीं बैठाता,
सितारों के बीच से सूरज बनने के कुछ अपने ही नुकसान हुआ करते है..

वो तितली की तरह आयी और ज़िन्दगी को बाग कर गयी
मेरे जितने भी नापाक थे इरादे, उन्हें भी पाक कर गयी।

अपने आप के भी पीछे खड़ा हूँ में,
ज़िन्दगी , कितने धीरे चला हूँ मैं…
और मुझे जगाने जो और भी हसीं होकर आते थे,
उन् ख़्वाबों को सच समझकर सोया रहा हूँ मैं….

ये सब कुछ जो भूल गयी थी तुम,
या शायद जान कर छोड़ा था तुमने,
अपनी जान से भी ज्यादा,
संभाल रखा है मैंने सब,
जब आओग तो ले जाना..

Zakir Khan Poetry Maasum Ladki

BOHOT MAASUM LADKI HAI, ISHQ KI BAAT NAHI SAMAJHTI,
NA JAANE KIS DIN MEIN KHOI REHTI HAI, MERI RAAT NAHI SAMJHTI…
HAAN, HMM, SAHI BAAT HAI…! TO KEHTI HAI,
ALFAAZ SAMAJH LETI HAI MAGAR JAZBAAT NAHI SAMJHTI…

One thought on “जाकिर खान शायरी – Zakir Khan Shayari in Hindi – Zakir Khan Shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *