world television day in hindi

टेलीविज़न दुनिया का एक गुण है,यह किसी वस्तु की छवि को संचारित करने के लिए एक उपकरण है।

कई घरों में टेलीविजन सेट हैं।

हम न केवल भारत में बल्कि दुनिया के अन्य हिस्सों में होने वाली विभिन्न घटनाओं के लाइव टेलीकास्ट देखने का आनंद लेते हैं।

world television day essay.
world television day in hindi.
टेलीविजन संचार का एक बहुत ही शक्तिशाली माध्यम है।
छात्रों के लिए विशेष रूप से तैयार कार्यक्रम है,
किसानों और अन्य लोगों को स्वास्थ्य आदतों, परिवार नियोजन, छोटी बचत और राष्ट्रीय पुनर्निर्माण सिखाया जाता है।
टेलीविजन लोगों के लिए मनोरंजन का स्रोत है।
छोटे नाटकों और फीचर फिल्मों द्वारा प्रसारित किया जाता है,
जो हमें क्रिकेट मैच और अन्य लोकप्रिय खेल वस्तुओं को लाखों लोगों द्वारा बहुत रुचि के साथ देखकर प्रसन्न करते हैं।

world television day in hindi

विज्ञान, गणित, इंजीनियरिंग, और कृषि में दिलचस्प विषयों पर वार्ता भी प्रचारित होती है।

विभिन्न देशों में जंगल में जानवरों और पक्षियों का जीवन स्पष्ट रूप से टेलीविजन द्वारा दिखाया जाता है।

हम दुनिया के अन्य हिस्सों के सुंदर प्राकृतिक दृश्यों को देखने में सक्षम हैं जिन्हें हम यात्रा करने का भी सपना नहीं देख सकते हैं।

इस प्रकार टेलीविजन बड़े शैक्षिक महत्व का उपकरण है।

इसका उपयोग वाणिज्यिक विज्ञापन, खोए बच्चों और प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिताओं की जानकारी के लिए भी किया जाता है।

हमारे देश में सनः 1959 से टेलीविजन का प्रयोग प्रारम्भ हुआ. वर्तमान में कृत्रिम उपग्रह के द्वारा सारे भारत में दूरदर्शन का प्रचार हो रहा है. दूरदर्शन के सैकड़ो चैनलों से अनेक तरह के कार्यक्रम सीरियल एवं फिल्मे प्रसारित होती है. इनसे तुरंत घटित या आँखों देखा प्रसारण होता है|

world television day  in hindi

दूरदर्शन की सबसे बड़ी उपयोगिता मनोरंजन के कार्यक्रमों के साथ समाचारों का तत्काल प्रचारण है. इससे शिक्षा का प्रचार होता है.

तथा रोजगार के साधनों का ज्ञान कराया जाता है. और राष्ट्रिय कार्यक्रमों एवं खेलकूद आदि का टेलीविजन से सीधा प्रसारण किया जाता है.

इस तरह जनचेतना को जाग्रत करने में तथा प्रौढ़ शिक्षा के क्षेत्र में दूरदर्शन विशेष उपयोगी माना जाता है|

आज विज्ञान ने हमें अनेक सुख सुविधा के साधन दिए हैं. जिनमें टेलीविजन भी एक हैं.

यह मनोरंजन का सबसे सस्ता साधन हैं. इसकी उपलब्धता आज लगभग सभी घरों में हैं.

अंधाधुंध वैज्ञानिक प्रगति के कारण जिस प्रकार हमारा पर्यावरण प्रदूषित हो रहा हैं.

ठीक उसी प्रकार टीवी संस्कृति का प्रदूषण व्यक्ति विशेष को ही नहीं, पूरे समाज को किसी न किसी रूप में प्रभावित कर रहा हैं.

world television day in hindi

किशोरों के मन पर कलुषित प्रभाव

किशोर मन चंचल और अस्थिर होता हैं. टेलीविजन पर अनेक ऐसे चैनल  हैं.

जो तरंग,  उल्लास, उमंग और मस्ती भरे कार्यक्रम लेकर आते हैं. किशोर ऐसे कार्यक्रम पर जान देते हैं. और उन्हें अंग बनाना चाहते  हैं. वास्तविक जीवन में चाहे वे  जैसे न बन पाएं.

किन्तु वैसी आकांक्षा अवश्य रखते हैं.

इसके लिए वे वैसी ही वेशभूषा, चाल ढाल, बोलचाल और फैशन अपनाते हैं.

इसका प्रभाव हमें पार्टियों और बारातों में दिखाई देता हैं. वे पुरानी मर्यादाओं को तोड़कर स्वच्छन्द जीवन धारा को अपनाने लगते हैं.

world television day  in hindi
world television day

संस्कृतियों मूल्यों में गिरावट

सांस्कृतिक मूल्य हमारी विरासत है जिनमें बंधकर परिवार और समाज अपनी निर्धारित मर्यादा के मध्य संचालित होता हैं.

आज टीवी के विभिन्न चैनलों से प्रसारित होने वाले कार्यक्रमों से हमारे सांस्कृतिक मूल्यों में गिरावट आई हैं.

नैतिक आचरण यार और फार की सीमाओं में बंधकर फलने फूलने लगा हैं. सामाजिक मर्यादाएं ढेर हो रही हैं|

किशोर मन सांस्कृतिक मूल्यों की परवाह न कर पाश्चात्य अंधानुकरण कर स्वच्छन्द जीवन जीने को अभ्यस्त हो रहा हैं.

world television day  in hindi

समय का दुरूपयोग

टेलीविजन में आने वाले कार्यक्रमों के प्रति जन मानस की आसक्ति इतनी बढ़ गई हैं कि दिन रात सब कामों को छोड़कर उनसे चिपके रहते हैं.

वे दूरदर्शन के कार्यक्रमों के बारे में तो जानते हैं. पर अपने पड़ोसी के बारे में नहीं जानते हैं.

विशेषकर विद्यार्थी वर्ग तो इन कार्यक्रमों के प्रति इतना दीवाना हो गया हैं कि उसे अपने भविष्य का भी ख्याल नही रहता हैं.

एक प्रकार से वे अपने जीवन के अमूल्य समय का दुरूपयोग टेलीविजन देखकर करते हैं.

उपसंहार

दूरदर्शन से आत्मसीमितता, जड़ता, पंगुता, अकेलापन आदि दोष बढ़े हैं. कई देशों में तो टीवी के कारण भी अपराध भी बढ़े हैं. परन्तु इसमें दोष टीवी का नहीं हैं.

कार्यक्रम प्रसारण समिति का हैं. दूरदर्शन तो मनोरंजन का सशक्त साधन हैं

जिसके समुचित उपयोग से हम जीवन को अधिक सुखद स्वस्थ और सुंदर बना सकते हैं.

आप इसे भी पढ़ सकते हैं।
http://hindikavitashayari.in/lal-bahadur-shastri-par-nibandh-2018/



 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *