विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर कविता: 31 मई को पुरे विश्वभर में विश्व तम्बाकू निषेध दिवस का आयोजन किया जाता है | इस दिवस का महत्वपूर्ण उद्देश्य तम्बाकू के रोकथाम के लिए सम्पूर्ण विश्व का ध्यान केंद्रित करना है | 31 मई को बहुत सी संस्थाए वैश्विक और राष्ट्रीय स्तर पर लोगो को तम्बाकू से होने वाली बीमारियों के प्रति जागरूक करना है | “तंबाकू मुक्त युवा” के संदेश अभियान के द्वारा और 2008 का विश्व तंबाकू निषेध दिवस को मनाने के दौरान इसके उत्पाद या तंबाकू के प्रचार, विज्ञापन और प्रायोजन को डबल्यूएचओ ने पुरे विश्वभर में प्रतिबंधित कर दिया है। आज में आप लोगो के साथ इस पोस्ट “विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर कविता – World No Tobacco Day par Kavita” को शेयर कर रहा हूँ |

World No Tobacco Day par kavita

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर कविता - World No Tobacco Day par Kavita in hindi 2019

आदत नही ये अच्छी तू पहचान ले,
जानलेवा है धूम्रपान ये बात जान ले !!
केसर नही कैंसर का दम है दाने दाने में,
ऐ मेरे दोस्त, छोड़ ये शोक, बात मान ले !!

औरों को बुरी लत का, नशेड़ी बना रहे हो
40 की उम्र पार करते, खांसी सताएगी
अपने आप अपनी, क्यों मौत बुला रहे हो
क्यूं यार मेरे खुद ही, खुद का गला दबा रहे हो
दम उखड़ जाएगी, जिंदगी रुलाएगी
फोकट में यार अपनी, सेहत गला रहे हो।

किसी किराने की दुकान से,
तम्बाकू के पाउच ले आते।
गली-गली में बच्चे दिखते,
खुल्ल्म-खुल्ला गुटखा खाते
वैसे बिलकुल सीधी-सच्ची,
बात तुम्हें अच्छी बतलाते।
जो होते हैं अच्छे बच्चे,
तम्बाकू वे कभी न खाते।

World No Tobacco Day par Kavita in Hindi

सिगार सिगरेट हुक्का बीड़ी तम्बाकू
इतने बुरे हैं जैसे हो कोई डाकू
जो इनको नित खाये ये उसको खा जाएं
ऐसा राक्षस और कौन है आप ही बताएं
फेफड़े आपके काले होकर सड़ेंगे
कैंसर के बुलाये मरीज़ आप बनेंगे
तम्बाकू की लत है मानो आत्महत्या करना
हो स्वस्थ रहना तो इस चक्कर में न पड़ना

धीरे-धीरे उस एक रूपए के Pouch ने ,
ऐसा रस घोला मेरे Mouth में ,
खाली-खाली सा कुछ लगता है ,
जब पैकेट से मुँह नहीं भरता है

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर कविता

क्यूँ इस तम्बाकू को …..मैंने गले लगाया ?
अपनी ही कश्ती को ………पानी में डुबाया ,
जीवन जीने की चाह ……एक ओर तलबगार थी ,
दूसरी ओर मृत्यु …..मेरे सर पर सवार थी
अगर तुम्हे भी ग़म है तो पास आओ,
पहली और आखरी बार गले लगाओ

अनमोल जिंदगी है,
बर्बाद न कीजिए।
उसके बदले सुबह-शाम,
दूध पीजिए।।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर कविता 2019

बाली उमर और ये गुट्खा,
कैसे-कैसे रोग बुलाते।
तड़प-तड़पकर निश्छल नन्हे,
हाय मौत को गले लगाते।
सरकारी हो-हल्ले में भी,
तम्बाकू को जहर बताते।
पता नहीं क्यों अब भी बच्चे,
गुटखा खाते नहीं अघाते।
मर्ज कैंसर हो जाने पर,
लाखों रुपए रोज बहाते।
कितनी भी हो रही चिकित्सा,
फिर भी प्राण नहीं बच पाते।

Poem on World No Tobacco Day 2019

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर कविता - World No Tobacco Day par Kavita in hindi 2019

फिर एक सिगरेट जला रहा हु,
फिर एक तीली बुझा रहा हु.

तेरी नज़र में मै बिगड़ रहा हु.
मैं तो तेरे वादे भुला रहा हु.

समझना मत इसको मेरी आदत,
मैं तो बस एक दर्द को दुसरे से दबा रहा हु.

ये तेरी यादो के सिलसिले है,
मैं तेरी यादे जला रहा हु.

मैं घायल, इतना टूट चूका हु,
के ग़म के किस्से सुना रहा हु.

अगर तुम्हे भी ग़म है तो पास आओ,
पहली और आखरी बार गले लगाओ.

है मेरी आँखें तो आज नम,
मगर मैं सबको हंसा रहा हु.

खो कर अपनी जिंदगी..
फिर एक सिगरेट जला रहा हु

1987 से लेकर 2014 के विषय (थीम) वर्ष के आधार पर दिये गये हैं:

अगर आप World No Tobacco Day in Hindi २०१९, विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर कविता, विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर कविता इन हिंदी, विश्व तंबाकू निषेध दिवस कोट्स इन हिंदी, विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर स्लोगन इन हिंदी, World No Tobacco Day par Kavita in hindi 2019, World No Tobacco Day par Kavita in hindi, World No Tobacco Day par Kavita in hindi me, आदि खोज रहे है तो यहां से प्राप्त कर सकते है | और आप अधिक से अधिक लोगो को इसके प्रति जागरूक करे |

वर्ष 1987 का थीम था “प्रथम धुम्रपान रहित ओलंपिक (1988 ओलंपिक शीत ऋतु- कैलगैरी)।”

वर्ष 1988 का थीम था “तंबाकू या स्वास्थ्य: स्वास्थ्य को चुनें।”

वर्ष 1989 का थीम था “तंबाकू और महिलाएँ: महिला धुम्रपान करने वाली: जोखिम को बढ़ाती हुयी।”

वर्ष 1990 का थीम था “बचपन और युवा बिना तंबाकू के: बिना तंबाकू के बड़ा होना।”

वर्ष 1991 का थीम था “सार्वजनिक स्थल और परिवहन: तंबाकू मुक्त बेहतर होता है।”

वर्ष 1992 का थीम था “तंबाकू मुक्त कार्यस्थल: सुरक्षित और स्वास्थ्यकर।”

वर्ष 1993 का थीम था “स्वास्थ्य सेवा: एक तंबाकू मुक्त विश्व लिये हमारी खिड़की।”

वर्ष 1994 का थीम था “मीडिया और तंबाकू: संदेश को सभी ओर भेजो।”

वर्ष 1995 का थीम था “आपकी सोच से ज्यादा होता है तंबाकू की कीमत।”

वर्ष 1997 का थीम था “तंबाकू मुक्त विश्व के लिये एकजुट हों।”

वर्ष 1998 का थीम था “तंबाकू के बिना बड़ा होना।”

वर्ष 1999 का थीम था “डिब्बे को पीछे छोड़ो।”

वर्ष 2000 का थीम था “तंबाकू मारता है, बेवकूफ मत बनो।”

वर्ष 2001 का थीम था “दूसरों से प्राप्त धुँआ मारता है।”

वर्ष 2002 का थीम था “तंबाकू मुक्त खेल।”

वर्ष 2003 का थीम था “तंबाकू मुक्त फिल्म, तंबाकू मुक्त फैशन।”

वर्ष 2004 का थीम था “तंबाकू और गरीबी, एक पापमय वृत।”

वर्ष 2005 का थीम था “तंबाकू के खिलाफ स्वास्थ्य पेशेवर।”

वर्ष 2006 का थीम था “तंबाकू: किसी भी रुप या वेश में मौत।”

वर्ष 2007 का थीम था “अंदर से तंबाकू मुक्त।”

वर्ष 2008 का थीम था “तंबाकू मुक्त युवा।”

वर्ष 2009 का थीम था “तंबाकू स्वास्थ्य चेतावनी।”

वर्ष 2010 का थीम था “महिलाओं के लिये व्यापार पर जोर के साथ लिंग और तंबाकू।”

वर्ष 2011 का थीम था “तंबाकू नियंत्रण पर डबल्यूएचओ रुपरेखा सम्मेलन।”

वर्ष 2012 का थीम था “तंबाकू उद्योग हस्तक्षेप।”

वर्ष 2013 का थीम था “तंबाकू के विज्ञापन, प्रोत्साहन और प्रायोजन पर बैन।”

वर्ष 2014 का थीम था “तंबाकू पर ‘कर’ बढ़ाओ।”

वर्ष 2015 का थीम था “तंबाकू उत्पादों के अवैध व्यापार को रोकना।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *