Aaj hum aapko apni post ” world breastfeeding week speech in hindi, world breastfeeding week 2018 theme, विश्व स्तनपान सप्ताह स्पीच हिंदी में ” ke madhyam se is विश्व स्तनपान सप्ताह ke baare main batane jaa rhe hai ki kaise ye विश्व स्तनपान ek week tak chalta hai.

World Breastfeeding Week 2018 Theme in Hindi

World Breastfeeding Week 2018 Theme in Hindi - विश्व स्तनपान सप्ताह स्पीच

पूरे विश्व में लगभग 38 प्रतिशत बच्चे ही 6 माह तक स्तनपान कर पाते हैं. स्तनपान बच्चों की केवल संक्रमण से ही रक्षा नहीं करता बल्कि मोटापे से भी दूर रखता है. इसके अलावा बाद के वर्षों में उनमें अस्थमा, मधुमेह और दिल की बीमारियां होने का खतरा भी कम करता है. राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन शिशु तथा बच्चों को स्तनपान कराने पर जोर दे रहा है हालांकि सभी माताएं स्तनपान करा सकती हैं लेकिन कई माताओं में यह गलतफहमी होती है कि माँ के दूध की बजाय दूसरी चीजों से बच्चों का स्वास्थ्य बेहतर हो सकता है. पूरे विश्व में माँ और बच्चे के स्वास्थय को बेहतर रखने के लिए मॉं के दूध के स्थान पर दिये जाने वाले दूसरे सभी खाद्य पदार्थों को हटाने और स्तनपान को बढ़ावा दिये जाने का प्रयास किया जा रहा है.

World Breastfeeding Week 2018 Theme – विश्व स्तनपान सप्ताह स्पीच हिंदी मे

World Breastfeeding Week Speech in hindi - विश्व स्तनपान सप्ताह स्पीच हिंदी में

शिशु के लिए मां का दूध अमृत के समान होता है। मां के दूध से शिशु को पोषण के साथ-साथ रोगों से लड़ने की शक्ति भी मिलती है। पहले छह महीने तक बच्चों को केवल स्तनपान पर ही निर्भर रखना चाहिए। सुपाच्य होने के कारण मां के दूध से शिशु को किसी भी तरह की पेट की गड़बड़ी होने की आशंका नहीं होती है। मां का दूध शिशु की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी सहायक होता है। इसलिए यह आपके शिशु के जीवन के लिए जरूरी है।इतना ही नहीं स्तनपान सिर्फ आपके शिशु के लिए ही नहीं बल्कि आपके लिए भी फयदेमंद है। स्तनपान कराने वाली महिलाएं रोगमुक्त रहती है।

World Breastfeeding Week 2018 Theme in Hindi Benefits

bachche ke liye maa ke doodh ke phaayade – बच्चे के लिए माँ के दूध के फायदे

World Breastfeeding Week Speech in hindi - विश्व स्तनपान सप्ताह स्पीच हिंदी में

माँ का दूध एक नवजात बच्चे के लिए बहुत उपयोगी होता है, बचपन में माँ का दूध जो बच्चा नहीं ले पाता है उसे पूरी तरह से पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं जिसकी वजह से बच्चा अविकसित रहता है। माँ के दूध कई बीमारियों से लड़ने में सक्षम होता है। स्तनपान करना जितना जरूरी बच्चे के लिए होता है उतना भी लाभकारी माँ के लिए भी होता है। स्तनपान करने से महिला में कैंसर जैसे बीमारी से लड़ने की ताकत और मोटापा नहीं होता है। और भी बहुत से फायदे है स्तनपान करवाने के लिए जिनके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं। जाने किस प्रकार माँ का दूध उसके बच्चे के लिए है फायदेमंद।

World Breastfeeding Week 2018 Theme in Hindi - विश्व स्तनपान सप्ताह स्पीच

स्वास्थ्य विभाग द्वारा पता चला है की एक नवजात बच्चे के लिए माँ का दूध बहुत ही लाभकारी होता है न की गाय या भैस का। लगभग ६ महीने तक बच्चे को अपना दूध पिलाने से उसे बहुत उपयोगी पोषक तत्व मिलते है जो कई बीमारियों से लड़ने की छमता रखता है। इसके अलावा दिमाग तेज, हड्डिया मजबूत या कोई अनवांशिक ढीलापन शरीर पर नहीं होता है। हम आपको बता दें की पहले ६ महीने तक अपने बच्चे को अपना ही दूध पिलायें, इसके अलावा कुछ भी नहीं।

Buddhi Main Vikaas Hota Hai – बुद्धि में विकास होता है

अगर आप World Breastfeeding Week 2018 Theme,  World Breastfeeding Week 2018 Theme in Hindi, विश्व स्तनपान सप्ताह स्पीच हिंदी में. हिंदी में पढ़ना चाहते है तो यह से पढ़ सकते है | साथ ही ये फ्रेंडशिप डे शायरी इन हिंदी भी पढ़े इन हिंदी |

World Breastfeeding Week Speech in hindi - विश्व स्तनपान सप्ताह स्पीच हिंदी में

माँ के दूध की ताकत कौन नहीं जनता है, अगर माँ का दूध ६ महीने या उससे अधिक पिया गया हो तो बच्चे के दिमाग का अच्छा खासा विकास होता है। माँ के दूध में वसीय अम्ल पाए जाते है जो जवजात शिशु के लिए बहुत जरूरी होते है। इसलिए बच्चे को अधिक बुद्धिमान बनाने के लिए पहले ६ महीने माँ का ही दूध पिलाये। उसके बाद आप गाय का दूध भी पीला सकते है। क्यूंकि गाय के दूध में भी काफी प्रोटीन और विटामिन्स होते है।

Stanapaan Canser Se Bachaata Hai – स्तनपान कैंसर से बचाता है

World Breastfeeding Week Speech in hindi - विश्व स्तनपान सप्ताह स्पीच हिंदी में

स्तनपान जिस प्रकार बच्चे के लिए बहुत लाभदायक है उसी तरह यह माँ के लिए भी बहुत उपयोगी होता है। स्तनपान करने से माँ में ब्रैस्ट कैंसर होने के खतरे बहुत कम हो जाते है, साथ ही साथ या बच्चे को भी कैंसर से बचता है। माँ के दूध में ट्रेल नमक प्रोटीन पाया जाता है जो लिम्फोब्लास्टिक नमक रोगो से बचाव करता है।

World Breastfeeding Week 2018 Theme in Hindi

World Breastfeeding Week Speech in hindi - विश्व स्तनपान सप्ताह स्पीच हिंदी में

A newborn baby has only three demands. They are warmth in the arms of its mother, food from her breasts, and security in the knowledge of her presence. Breastfeeding satisfies all three.

People need to understand that when they’re deciding between breastmilk and formula, they’re not deciding between Coke and Pepsi…. They’re choosing between a live, pure substance and a dead substance made with the cheapest oils available.

I breastfeed because I couldn’t produce enough formula.

When she first felt her son’s groping mouth attach itself to her breast, a wave of sweet vibration thrilled deep inside and radiated to all parts of her body; it was similar to love, but it went beyond a lover’s caress, it brought a great calm happiness, a great happy calm.

What a singular fact for an angel visitant to this earth to carry back in his note-book, that men were forbidden to expose their bodies under the severest penalties!

No one who has seen a baby sinking back satiated from the breast and falling asleep with flushed cheeks and a blissful smile can escape the reflection that this picture persists as a prototype of the expression of sexual satisfaction in later life.

A pair of substantial mammary glands have the advantage over the two hemispheres of the most learned professor’s brain in the art of compounding a nutritive fluid for infants.

 

One thought on “World Breastfeeding Week 2018 Theme in Hindi – विश्व स्तनपान सप्ताह स्पीच

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *