डॉ बाबासाहेब अम्बेडकर शायरी – जय भीम शायरी, अंबेडकर पर शायरी, Ambedkar shayari hindi, Jay Bhim status in hindi

Posted by

Jay Bhim Hindi Shayari And Status For Facebook And WhatsApp shayari on dr.baba sahab Ambedkar हिंदी, जय भीम शायरी सटेटस ,जय भीम स्टेटस 2018,  Jai Bhim Status in Hindi & Marathi, Jay Bheem Status for Whatsapp

जय भीम स्टेटस  – Jai Bhim Status in Hindi

नज़र उठाओ आँखें खोलो, जाकर के इतिहास पढो
लड़ो नहीं यूँ आरक्षण पर, काबिल बन इतिहास गढ़ो
बाबा साहेब काबिल बनकर, संविधान गढ़ आये थे
बनो बनाओ बाबा साहेब, फिर दुनिया पर राज करो।

सबके हक में सब होता पर, अपने हक में क्या होता
सबके हक में रब होता पर, अपने हक में क्या होता
सोच सोच कर दिल घबराये, दशा दिशा कैसी होती
होते ना बाबा साहेब तो, अपने हक में क्या होता।

पैदा ना होता वो मसीहा तो खुशियों का सिलसिला नहीं होता
बे रंग रहती ये ज़मी और आसमान का रंग नीला नहीं होता
भारत तो कब का कंगाल हो जाता यारो
अगर भीम राव आंबेडकर जैसे हीरा मिला नहीं होता

कुरान कहता है मुसलमान बनो
बाइबल कहता है ईसाई बनो
भगवत गीता कहती है हिन्दू बनो
लेकिन मेरे बाबासाहेब का
संविधान कहता है मनुष्य बनो

Bhimrao Ambedkar Shayari in Hindi

वो समाज भी अपनी है, जो खुले गगन को सहती है
उनमें भी इज़्ज़त होती, उनमें भी गैरत रहती है
एक अकेले भीमराव, दलितों के हक में लड़ते थे
इसीलिये तो उनको दुनिया, साहेब साहेब कहती है।

हमारे हौसलों को ताज़गी, थोड़ी हवा देना
जिएं हम सरज़मीं के वास्ते, इतनी वफ़ा देना
ऐ मेरे भीम तुम हम पर, महज़ इतनी कृपा करना
मरें हम देश की ख़ातिर, हमें इतनी दुआ देना।

खाली नाम के यहा पर कितने भगवान हो गये……….
लेकीन एकही भीम के करम से आज हम इन्सान बन गये……….
जिन्हे चलना, संभलना याद न था….
आज धूल से उठकर आसमान बन गये …….
ये मेरे भीम बाबा हमको है बचाया तुमने…..
अरे ठुकराया था उस दुनिया ने…..
तो पहले गले से लगाया तुमने.

नजारों मे नजारा देखा एसा नजारा नही देखा,
आसमान मे जब भी देखा
मेरे भीम जैसा सितारा नही देखा।

देश प्रेम में जिसने आराम को ठुकराया था
गिरे हुए इंसान को स्वाभिमान सिखाया था
जिसने हमको मुश्किलों से लड़ना सिखाया था
इस आसमां पर ऐसा इक दीपक बाबा साहेब कहलाया था

Ambedkar Par Kavita – अम्बेडकर पर कविता

बाबा तेरे दर्शन करलु मन में तुझको भरलु मै भरलु संविधान के निर्माता मै तेरी पुजा करलु बाबा तेरे दर्शन करलु
तुने है संविधान बनाया तुने है सम्मान दिलाया तुने ही संविधान मे हमको आरक्षण वान बनाया
तुही है जीवन की धारा तुही है सरगम मे स्वरा
तुने है हम सबको स्वारा
तुने है हम सबको सिचा तुही है संविधान का लेखा
तुझको है सौ बार नमन तुझको बारम्बार नमन तेरे सामने शिश झुकाकर तुझको प्रणाम मै करलु
बाबा तेरे दर्शन करलु मन मे तुझको भरलु संविधान के निर्माता मै तेरी पुजा करलु
तु ही है स्वर्ग लोक उजागर तुही है सुखे मे सागर
तुही है विश्वास की पर्लय तुही है जागऱती की सुर लय
तुझमे ही जिन्दा मै रह लु तुझमे है सौ बार मै मरलु
बाबा तेरे दर्शन करलु मन में तुझको भरलु
तेरे विचारो पे चलकर मै दलित समाज के सब दुख हरलु
बाबा तेरे दर्शन करलु मन मे तुझको भरलु मै भरलु संविधान के निर्माता मै तेरी पुजा करलु

बचपन से साए में जीते जीते
बड़े हुए… फिर भी रहे वही साए उनके पीछे पीछे
नजर न आया क्या करना है
थोड़े समय में खूब पढ़ लिख गये
पढाई पूरी करने विलायत भी गये
वापस आकर भी दिखी उन्हें वही दशा
देश तो आज़ादी मांगे और हम आपस में खफा
हर एक मार्ग देख लिया उन्होंने
बात अहिंसा की करते थे
गौतम बुद्ध के आदर्शो पर चलते थे
नामुमकिन पथ को.. मुमकिन कर डाला
समाज में न थे जो.. उनका समाज बना डाला
हर तरह से वाकिफ थे वो
कोई उनकी नहीं सुनता था… लेकिन सबके लिए अकेले काफी थे वो
मकसद.. एक एक को इन्साफ दिलाना
वकालत में भी हाथ आजमाया
उनके जितना न था किसी के पास ज्ञान
गाँधी नेहरु प्रसाद ने रचवा डाला उनसे संविधान
मानते है आज भी सब उनको बहुत दिमाग वाला
1990 में भारत सरकर ने उन्हें याद कर … भारत रत्न दे डाला
छोटी सी कविता में इतने बड़े इंसान को बयां कैसे करू
जिसने भारत को चलने लायक बनाया उसके बारे में और क्या लिखूं
अब न केवल संविधान बनाया.
इन्होने समानता का भी पाठ पढाया
जब भी जरुरत पड़ी भारत को
तब इंसानों को इंसान बनाया

मेरे भीम ने आँख खोली‚हर कोई ईन्सान बन गया।
मेरे भीम ने जुबाँ खोली‚हर कोई तुफान बन गया।
मेरे भीम ने किताब खोली‚हर कोई विद्वान बन गया।
मेरे भीम ने कलम खोली‚ और इस देश का संविधान बन गया।
अरे, इस संविधान की वजह से चाय बेचनेवाला आज प्रधानमंत्री हो गया.

अम्बेडकर पर शायरी

ना छुरी रखता हुंना पिस्तौल रखता हुं
“जय भिम” का बेटा हुंदिल में जिगर रखता हुं.!
इरादों मे तेज़ धार रखता हुंइस लिए हमेशाअकेला ही निकलता हु.!!
ये आवाज नही शेर कि दहाड़ है…..
हम खडे हो जाये तो पहाड़ है।जय भिम

भीम जैसा सूरज अगर निकला ना होता,
हम दलितों के जिवन मे ये उजाला ना होता,
मर गये होते युही जुल्म सहकर
अगर हमे भीम जैसा रखवाला मिला ना होता।

देश में क्रांति ऐसी हो :-
जब पैदा हो बच्चे तो, धरातल भीम का हो !
जब आँख बंद हो तो, सहारा भीम का हो !
एक पीढ़ी मिट जाये तो, कोई गम नहीं,
लेकिन मरते वक्त भी हर जुबॉ पर, नारा भीम का हो |

Ambedkar Jayanti Quotes, Wishes

Yakinantar agar mere bhim na hote to ye azadi na hoti,
baat mere baba ki mante to aaj desh ki ye barbadi na hoti ,
chali ayi hai wo azadi dulhan bankar magar kaise ,
agar mere bhim dulha na hote to ye shadi na hoti.. . .
JAY BHIM

Om Bolne Se Man Ko Shanti Milti Hai,
Sai Bolne Se Man Ko Shakti Milti Hai,
Ram Bolne Se Paapon Se Mukti Milti Hai,
Lekin ‘JAI BHIM’ Bolne Se Insaan Ko Insaan Ki Pehechan Milti Hai…
Aise Mere Babasaheb Ki Vani Hai!
NAMO BUDDHAYA! JAI BHIM! !

HAM jab chalte he to dekhne walonka DIL machal jaata he,
HAM jab thehrate he to TOOFAN bhi theherta he,
HAME badalneki KOSHISH bhi mat karna har DIN,
kyonki HAM jab BADALTE he to,
saara ITIHAAS badal jaata he.
Jai Bhim

डॉ बाबासाहेब आंबेडकर शायरी

सच्चाई को कभी यारों छोडना नहीं
अपने वादो से मुख कभी मोडना नहीं
जो भूल गये भिम के एहसान को हमेशा
ऐसे मक्कारो से रिशता भुलकर भी जोडना नहीं।

नीले अर्श पर नीली घटा छायी है ….
तेरे करम से बुद्ध की दौलत पायी है….
कोई नही पराया सारे भाई भाई है…
मिल जुलकर रहने मै सबकी भलाई है…
छोड्दो अपना पराया ए जय भिमवालो…
दिल से दिल मिलाने ये भिम जयंती आयी है…

सुनकर जमाने की बाते हम अपने”
आपको” नही बदलते.
भरोसा रखते है हम खुदसे
भी ज्यादा अपने “बाप” के विचारो पर,
इसलिए हम जय भिम वाले
कभी अपने “बाप” को नही बदलते.
जय भीम

ममता,करणा और समता जिसका है आधार
हमारी उजाड़ी जिन्दगी में ला दी बाबा साहेब ने बहार
हमारी आजादी की कहानी लिखी हमारे भीम ने
खुशियों भरा सजाया हमारा संसार भीम ने

रुतबा मेरे सर को तेरे संविधान से मिला है
ये सम्मान भी मुझे तेरे संविधान से मिला है
औरो को जो मिला है वो मुकदर से मिला है
हमें तो मुकदर भी तेरे संविधान से मिला है
*ना ‘जिंदगी’ की खुशी* ना ‘मौत’ का गम*
*जब तक है..दम..*”जय भीम” कहेंगे हम….!!!*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *